• Mumbayi Ke Kahaniyan
  • Ebook Hide Help
    ₹ 60 for 30 days
    ₹ 324
    360
    10% discount
    • fb
    • Share on Google+
    • Pin it!
  • मुम्बई की कहानियाँ

    Mumbayi Ke Kahaniyan

    Pages: 208
    Language: Hindi
    Rating
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    Be the first to vote
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    0 Star Rating: Recommended
    '0/5' From 0 premium votes.
Description

भारत के वाणिज्यिक राजधानी के प्रति प्रेम नेँ मुझे मुम्बईकरॉं, उनकी आकांक्षाओं, उनकी अभिलाषाओं, सफलताओं, उनकी तकलीफों तथा और भी अनेक बातों को लेकर कहानियों रचना करने का प्रेरणा दी है।

मेरी कहानियाँ मूलतः तेलुगु में लिखी गई थी जो मेरी मातूभाषा है। वे जब विभिन्न पत्र - पत्रिकाओं में प्रकशित हुई तब तेलुगु पाठकों से काफी उत्साहव्र्ध प्रतिसाद मिला इससे मुझे १९९८ में अपनी कहानियॉं का एक संग्रह ‘मुंबई कय़लु’ प्रकाशित करने के लिए प्रेरणा मिली।

उसी पुस्तक का हिंदी अनुवाद है – “मुम्बई की कहानियाँ"।

- आंबल्ला जनार्धन

Preview download free pdf of this Hindi book is available at Mumbayi Ke Kahaniyan
Comment(s) ...

Many thanks for publishing my book on kinige.com
I hope I can now reach Hindi readers all over the world.